अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day)

हर साल 12 मई को हम अपने समाज में नर्सों के योगदान को चिह्नित करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस मनाते हैं। इस दिन आधुनिक नर्सिंग के संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल की जयंती भी है। नर्सें अस्पतालों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं और रोगियों को ठीक करने में मदद करती हैं। वे लोगों की आवश्यकता की पहचान करने और उनकी रक्षा करने के लिए अथक प्रयास करते हैं। ये इस वर्ष विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि नर्सिंग पेशेवर COVID-19 महामारी के खिलाफ सामने से नेतृत्व कर रही हैं।

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day)

बीमारों को जिंदगी देने में जितना योगदान डॉक्टर्स का है, उससे कम योगदान नर्स का नहीं है। नर्स बीमारों की तन और मन से सेवा करती है। नर्से अपनी परवाह किए बिना मरीज की जान बचाती हैं। यह दिन उनके योगदान को समर्पित होता है। साथ ही यह दिन दुनिया में नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल को भी श्रद्धांजलि है।

आधुनिक नर्सिंग की जननी ‘फ्लोरेंस नाइटिंगेल’ की याद में प्रति वर्ष 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day) मनाया जाता है। 1965 से अभी तक यह दिन हर साल इंटरनैशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज द्वारा अंतरराष्‍ट्रीय नर्स दिवस के रूप में मनाया जाता है।

ब्रिटि‍श परिवार में 12 मई 1820 को जन्मी फ्लोरेंस नाइटिंगेल अपनी सेवा भावना के लिए याद की जाती हैं। उन्होंने 1860 में सेंट टॉमस अस्पताल और नर्सों के लिए नाइटिंगेल प्रशिक्षण स्कू‍ल की स्थापना की थी।
इन्होंने मरीजों और रोगियों की सेवा की प्रीमिया युद्ध के दौरान लालटेन लेकर घायल सैनिकों की दिल से सेवा की थी, जिसके कारण ही उन्हें ‘लेडी बिथ द लैम्प’ कहा गया।

अमेरिका के स्वास्थ्य, शिक्षा और कल्याण विभाग के एक अधिकारी डोरोथी सुदरलैंड ने पहली बार नर्स दिवस मनाने का प्रस्ताव 1953 में रखा था। इसकी घोषणा अमेरिका के राष्ट्रपति डेविट डी. आइजनहावर ने की थी। जनवरी, 1974 में 12 मई को अंतरराष्ट्रीय दिवस के तौर पर इसे मनाने की घोषणा की गई। 12 मई को आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म हुआ था। उनके जन्मदिन को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर रखने में नर्सों का बड़ा योगदान होता है। नर्सों को प्रशिक्षण दिया जाता है, ताकि वे मरीजों को मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और चिकित्सीय तौर पर फिट होने में मदद करें। इस दिन नर्सों के योगदान को रेखांकित किया जाता है। इससे दुनिया नर्सों के महत्व से अवगत होती है। नर्सों को समाज में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। हर साल 12 मई को राष्‍ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगल पुरस्‍कार दिया जाता है। इसकी शुरुआत 1973 में भारत सरकार के परिवार एवं कल्‍याण मंत्रालय ने की थी।
पुरस्कार से नर्सों की सराहनीय सेवा को मान्‍यता प्रदान की जाती है। अब तक कुल 250 के करीब नर्सों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। पुरस्कार हर साल देश के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है।

हर साल भारतीय नर्स परिषद (ICN) नर्सों के लिए किट तैयार और वितरित करती है। इसमें हर जगह नर्सों द्वारा उपयोग के लिए शैक्षिक और सार्वजनिक सूचना सामग्री है।

चल रही महामारी ने हमें एहसास दिलाया है कि नर्सिंग दुनिया में सबसे बड़े स्वास्थ्य देखभाल पेशे में से एक है। वे मिलेनियम डेवलपमेंट गोल्स (एमडीजी) हासिल करने में अहम भूमिका निभाते हैं। रोगी के स्वास्थ्य और कल्याण को बनाए रखने के लिए नर्सों को कई प्रशिक्षण प्रदान किए जाते हैं। उन्हें एक मरीज को ठीक से संभालने के बारे में उचित ज्ञान है। नर्सों को सबसे अच्छी स्वास्थ्य सेवा देने का गहरा ज्ञान है।

थीम:

इस वर्ष के अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस का थीम ‘विश्व स्वास्थ्य के लिए नेतृत्व करने के लिए एक आवाज’ है।

कनाडा, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस जैसे देश सप्ताह भर के जश्न का हिस्सा हैं, जिसे आमतौर पर राष्ट्रीय नर्स सप्ताह के रूप में जाना जाता है।

Key Points-

International Nurses Day is celebrated every year on 12 May in memory of Florence Nightingale, the mother of modern nursing. Since 1965, the day has been celebrated every year by the International Council of Nurses as International Nurses Day.

Born in the British family on 12 May 1820, Florence Nightingale is remembered for her service spirit. He founded St. Tomas Hospital in 1860 and a nightingale training school for nurses. He served the patients and patients heartily with the wounded soldiers carrying lanterns during the premia war, due to which he was called ‘Lady with the Lamp‘.

Dorothy Sutherland, an officer in the US Department of Health, Education and Welfare, first proposed to celebrate Nurses Day in 1953. It was announced by US President DeWitt D. Eisenhower. It was announced to celebrate 12 May in January 1974 as International Day. On May 12, Florence Nightingale, the founder of modern nursing, was born. Her birthday is celebrated as International Nurses Day.
The National Florence Nightingale Award is given every year on 12 May. It was started in 1973 by the Ministry of Family and Welfare, Government of India.
The award recognizes the commendable service of nurses. A total of around 250 nurses have been awarded this award so far. The award is given every year by the President of the country.

Theme of International Nurses Day 2020

The theme of this year’s International Nurses Day is ‘A Voice to Lead to World Health’.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!